15 January 2013

साल 2013 की पहली 13 तस्‍वीरें

साल के पहले दिन मम्‍मा-पापा ने छुट्टी ले रखी थी ताकि वो मुझे घुमाने ले जायें। उस दिन हम सबेरे-सबेरे संजय गांधी नेशनल पार्क गये, जो बोरीवली ईस्‍ट में ही है। हल्‍की सर्दियों के दिन। और धूप में नहाया नेशनल पार्क।

तय हुआ कि सबसे पहले मैं टॉय-ट्रेन की सैर करूंगा। इसलिए हम पहुंच गये कृष्‍णगिरी स्‍टेशन। वहां मम्‍मा-पापा ने टिकिट लिया और मैं ट्रेन का इंतज़ार करने लगा।

1. DSC_1278

वॉच में टाइम देखा। अरे टाइम तो हो गया। पर अब तक ट्रेन क्‍यों नहीं आयी। आजकल सारी ट्रेनें इतनी लेट क्‍यों चलती हैं। मैंने सोचा, शायद कोहरे की वजह से लेट हो गयी होगी। तभी ट्रेन का हॉर्न सुनाई दिया। उस तरफ देखा तो यलो कलर की ट्रेन आ रही थी।

2. DSC_1282

बस ट्रेन देखकर मज़ा आ गया। मैंने सोचा कि दौड़कर चढ़ जाऊं। पर मम्‍मा ने समझाया कि चलती ट्रेन या बस में ना तो चढ़ना चाहिए और ना ही उतरना चाहिए। क्‍या आपको आपकी मम्‍मा ने ये बात सिखायी है।

3. DSC_1285

जब ट्रेन रूक गयी तो में कोच नंबर वन में चढ़ गया। और एकदम किनारे की सीट पर बैठ गया।
4. DSC_1287

फिर पापा ने बताया कि देखो ट्रेन पर लायन बना है। मैंने इस लायन से बात की। इसके हालचाल पूछे। उसने बताया कि आजकल उसे काफी ठंड लग रही है।

5. DSC_1296

टॉय ट्रेन की सैर करते हुए मुझे बहुत सारे एनिमल्‍स दिखे। बड़ा मज़ा आया। इसके बाद हम झील के उस पार गये। जहां बोटिंग हो रही थी।
6. DSC_1300

मम्‍मा ने कहा कि थोड़ी देर यहां बैठें। तभी एक छोटा बच्‍चा गीली मूंगफली बेच गया। बस हमने वहां बैठकर मज़े से मूंगफली खायी। मैंने भी खाई। सच्‍ची।

7. DSC_13048. DSC_1306

फिर बारी आयी फुटबॉल खेलने की। तो गाड़ी से फुटबॉल निकाली और पापा के साथ मैं खूब खेला।

9. DSC_1307

तभी मुझे एक बड़ा-सा पत्‍थर पड़ा नज़र आया। मैंने सोचा कि इसे रास्‍ते से हटा दूं। आजकल मैं 'छोटा-भीम' देखता हूं। मैं भी उसकी तरह ताक़तवर हूं। इसलिए कोशिश करने में क्‍या हर्ज है।


10. DSC_1310

एक अंकल ने देखा तो वो भी हेल्‍प करने के लिए आ गये। पर हम दोनों शायद सब्‍ज़ी नहीं खाते ना, इसलिए इतने ताक़तवर नहीं हैं। पत्‍थर हम लोगों से नहीं उठा। मैंने उस पत्‍थर से कह दिया कि मैं ठीक से खाना खाके ताक़तवर बनकर आऊंगा। फिर तुम्‍हें उठाकर किनारे रख दूंगा। तब तक कहीं मत जाना।

11. DSC_1312

पर उस पत्‍थर को सबक़ सिखाना बाक़ी रह गया था। इसलिए मैं उस पत्‍थर पर बैठ गया। और पापा ने फोटो खींच ली।
12. DSC_1321

अब मैं बहुत थक गया था और मेरी फुटबॉल भी थक गयी थी। तो हम दोनों वहीं मैदान में आराम करने लगे।
13. DSC_1323

तो ये था मेरा नये साल का पहला दिन। और 2013 की पहली 13 तस्‍वीरें।
आप सबको देर से नया साल मुबारक।

7 comments:

अखिलेन्द्र said...

अले जादू जी....आप तो काफी मजा किये साल के पहले पहले दिन...!!

प्रवीण पाण्डेय said...

एक बात आपको बतायें, एक कृष्णागिरी तमिलनाडु में भी है, पर वहाँ रेलवे स्टेशन नहीं। वहाँ के लोग चाहते हैं पर हम कहेंगे कि स्टेशन आप ले गये मुम्बई।

PD said...

छोटा भीम लड्डू खाकर ताकतवर हुआ है, इसे हरी सब्जी के साथ लड्डू भी खिलाइए.

Anonymous said...

nice pics- noopur

Anonymous said...

[b][url=http://www.beatsbydreking.com]beats by dre[/url][/b] the unique sinkable form, coordinated with swiveling headsets k-cups, grants largest room in any apps. Sennheiser hd-280 created the skilled professional natural world whereby checking sound areas is key, these headsets are a perfect plan. Circumaural, closed down ear coupling helps you attention in across any most recent characteristic.


[b][url=http://www.beatsbydresea.com]Beats Dr Dre[/url][/b] tones often be a high-very good quality headset and it's launched merely by ogre. having improved phone speaker design and style serious isolation treatments, hues may easily takes advantage of the tone as well as,while yellow shock really even better formula garner a great deal boost received from cheap constancy power up. the actual, music provide 110dB ability to indicate to just about every single step to stone, hip bone scorching and so R understanding that demand that solely all over sound rate.


http://www.beatsbydrevogue.com once pray, may undoubtedly returned the terms. visualize their specific that means and moreover think about fit. once you are saying discount this as being act, however follow through. c des pistes, des fits présentations, Des références, Mais je d pas la substatifique moelle. Rien à faire il va falloir cual m sur house, ring qu parlent. Arrrghhhh,

Anonymous said...

Louis Vuitton sac à main Louis Vuitton Pas Cher sac Louis Vuitton Pas Cher Louis Vuitton

Anonymous said...

[url=http://bbs.99food.com/forum.php?mod=viewthread&tid=1102013]lv bags online sale[/url] an especially practical area to Live


[url=http://www.louisvuittonglobalselling.comforum.100elearning.com/viewthread.php?tid=4654070&extra=]hermes bags prices[/url] night sky help to consumers pick which advisor to focus on aid in addition reward analysts for serving large client satisfaction.


[url=http://www.insaneenergy.com.au/node/1599893]herm猫s bag[/url] did you know abuse just isn't common using this type of life? This is probably the greatest common the wrong ideas upto a BDSM alternative the way of life, And one that you should allayed eventually. over-all, A BDSM remedy way of is not about neglect, And generally in such a circumstance, It is nothing more than a fantastic chance.

जादू क्‍यों

हम हैं जादू के मम्‍मी-पापा ।
'जादू' अपनी मुस्‍कानें लेकर आया है हमारी दुनिया में ।
हम चाहते हैं कि ये मुस्‍कानें हम दुनिया के साथ बांटें ।

जादुई दिन

Lilypie - Personal pictureLilypie Second Birthday tickers

  © Free Blogger Templates Spain by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP