13 September 2010

जादू ने मनाई ईद और चाचू को दी 'ईदी'

 

 

 

जबलपुर में आपके जादू की मस्‍ती जारी है। 'गैया' और 'भैया' के साथ तो जादू रोज़ ही खेलता है। पर ईद के दिन बड़ा मज़ा आया। मैं बाक़ायदा कुर्ता-पैज़ामा-जैकेट पहनकर तैयार हो गया। देखिए तैयार होकर  मैं कैसा लग रहा था। 

  IMG_7725 IMG_7727 
ईद के दिन मैंने खूब सिवईं खाईं। सबसे 'ईदी' भी मिली मुझे। मैंने पहले सही अपने सारे पैसे अपनी 'गुल्‍लक' में डालना सीख लिया है। मेरी गुल्‍लक तेज़ी से भरती जा रही है।  

अब ईद के एक दिन पहले की एक मज़ेदार बात सुनिए। सब लोग अपनी बातों में मगन थे। मुझे अचानक मौक़ा मिला और वो भाग निकले। अब सबको मेरी आवाज़ें सुनाई दे रही थीं। पर मैं नज़र नहीं आ रहा था। दादाजी सड़क की तरफ़ भागे। दादी दूसरी तरफ़। शेबी दीदी छत पर गयी। मम्‍मा एक कमरे में। पापा दूसरे कमरे में। सबके सब मुझे खोज रहे थे। आखिरकार पता चला कि मैं बाथरूम में एक बाल्‍टी से दूसरी बाल्‍टी में पानी डाल रहा था। और साथ में गाना भी गा रहा था। सबके सब इस नज़ारे को देखकर ख़ूब हंसे। ये जो ऊपर की तस्वीर में कुर्ता-पज़ामा दिख रहा है ना...ये पूरी तरह से गीला हो गया। फिर मेरे कपड़े गीले हो गए। 

ईद की शाम जब सब लोग मिलकर गप्‍पें कर रहे थे तभी अचानक फाजिल भैया डॉगी बनकर मुझे डराने लगे। मैंने उन्‍हें दौड़ाया। पर फिर मैं उनके ऊपर चढ़ गया और 'घोड़ा-घोड़ा' खेलने लगा। लेकिन मज़ा नहीं आ रहा था। इसलिए पापा ने कहा, मैं घोड़ा बनता हूं। अब मैं और फ़ाजिल भैया पापा की पीठ पर चढ़ गए और पापा को 'घोड़ा' बनाकर खूब खेले। ये नज़ारा देखकर दादा-दादी, मम्‍मा, बुआ, चाचा-चाची, शेबी दीदी सबको बड़ा मज़ा आया। देखिए पापा भी घोड़ा बनकर कैसे हंस रहे हैं।    
IMG_7747इसके बाद तो एक और मज़ेदार बात हुई। बबलू चाचू के पास दो मोबाइल हैं। एक बड़ा अच्‍छा और दूसरा उतना ही पुराना। चाचा इस हैन्‍डसेट को बदलने की ही सोच रहे हैं। पर आलस और लापरवाही की वजह से बदल नहीं रहे। ये हैन्‍डसेट मेरे हाथ लग गया। और मैं इससे फोन-फोन खेलने लगा। फिर सबने कहा 'जादू इस मोबाइल को फेंक दो'। मैं पहले तो समझ नहीं पाया कि ऐसा क्‍यों कहा जा रहा है। पर फिर मैंने सबकी बात मान ली और उसे फेंक दिया। फिर उठाया, फिर फेंका। कई बार फेंकने के बाद वो मोबाइल बेहोश हो गया। ये देखिए मोबाइल का आखिरी नज़ारा। इस तरह मैंने चाचू को ईदी दी। अब वो नया मोबाइल ख़रीदेंगे ना। समझ लीजिए कि वो नया मोबाइल मैंने ही दिलाया है।    

IMG_7751अगर आपके घर में कोई है जो पुराना हैन्‍डसेट इस्‍तेमाल कर रहा है और आलस या लापरवाही जैसी किसी वजह से उसे बदल नहीं रहा है तो मुझे बुला लीजिएगा। उस हैन्‍डसेट के इतने या इससे ज्‍यादा टुकड़े होने के गारन्‍टी लेता हूं मैं। मैं जादू हूं ना मैं कुछ भी कर सकता हूं।

कल मैंने जबलपुर में कई ब्‍लॉगरों से मुलाक़ात की 'सिटी कॉफी हाउस' में। बड़ा मज़ा आया। मैंने सबसे ब्‍लॉगिंग के बारे में कई गंभीर बातें सुनीं। 'बवाल' अंकल जब क़व्‍वाली गा रहे थे तब मैंने डान्‍स भी किया। एक और अंकल हैं, जिनका नाम याद नहीं शायद शुक्‍ला अंकल....उनके लोकगीत गाने पर मैं एकदम सन्न होकर सुनता रहा। कल की शाम यादगार रही मेरे लिए। 

आज शाम मैं मुंबई के लिए रवाना हो रहा हूं। मुंबई पहुंचकर अपनी ख़बर देता रहूंगा।
अब चलता हूं मुझे दादी की क्‍यारियों में पानी देना है।  

10 comments:

माधव said...

nice Jadoooooooooooooo

महेन्द्र मिश्र said...

कल अपुन खूब मिले जादू भैय्या ... मजा आ गया ... अब फिर मिलेंगें
बाय बाय टाटा ...
अपनी झलक यहाँ भी देखें - समयचक्र पर
समयचक्र: ब्लागर मिलन - भाई यूनुस खान और जादू से मुलाकात ...

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत ठीक जादू गुरु।

Akshita (Pakhi) said...

जादू तो पूरा जादू ही कर गए....

Udan Tashtari said...

पूरे जबलपुरिया रंग में रंग गये हो...कव्वाली पर नाच लिए बबाल अंकल की...शुक्ला अंकल भी खूब गाये हैं..हमने भी सुना है उनको.

रावेंद्रकुमार रवि said...

इस पोस्ट की चर्चा यहाँ है -
रिमझिम का प्यारा दोस्त कौन है? : सरस चर्चा (13)

रंजन said...

वह जी बेटा.. खुब मजे किये..

पापा को नया मोबाइल कब दिला रहे हो?

Manish said...

जादू घुटनों के बल अब नहीं चलता अब वह चलना सीख गया क्या? लेकिन ये क्या? उसके पापा घुटने के सहारे चलते दिखाई दे रहे हैं…

बहुत दिन बाद आपकी गली आया… मजा आया :P

बाल्टी का पानी इधर उधर करते रहिये… कभी कभार अपने पापा के सिर पर भी उड़ेल दिया कीजिये… :P

Manish said...

आप जादू हो कुछ भी कर सकते हो…

Saba Akbar said...

........और हमारी ईदी ??

जादू क्‍यों

हम हैं जादू के मम्‍मी-पापा ।
'जादू' अपनी मुस्‍कानें लेकर आया है हमारी दुनिया में ।
हम चाहते हैं कि ये मुस्‍कानें हम दुनिया के साथ बांटें ।

जादुई दिन

Lilypie - Personal pictureLilypie Second Birthday tickers

  © Free Blogger Templates Spain by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP