20 June 2010

जादू ने कहा पापा से--'हैपी फादर्स डे'

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

पता है आज 'फादर्स डे' है। यानी पितृ दिवस।


आज सबेरे मैं अपने पापा के साथ ख़ूब खेला।

 


वो तो रोज़ खेलता हूं।


और उन्‍हें हैपी फादर्स डे भी कहा।

मैं अपने पापा से बहुत प्‍यार करता हूं। पता है रोज़ शाम को जब उनके दफ्तर से घर लौटने का वक्‍त होता है...तो मुझे अहसास हो जाता है कि पापा आने वाले हैं। जबकि मुझे घड़ी देखना नहीं आता। अगर किसी वजह से पापा को देर हो जाए या उनका कुछ और शेड्यूल रहे तो मुझे घर में ज़रा-भी अच्‍छा नहीं लगता और मैं मम्‍मा को परेशान कर के रख देता हूं।

दरअसल रोज़ शाम को पापा दफ्तर से आते ही मेरे साथ ख़ूब उछल-कूद मचाते हैं, धमाचौकड़ी करते हैं। हम पूरे घर में खिलौने बिखेर देते हैं। पूरे घर में दौड़ते हैं...हंगामा मचाते हैं। मैं बॉल फेंकता हूं पापा दौड़कर पकड़ते हैं। फिर मैं पापा के ऊपर घोड़ा भी बनता हूं। और उछल उछलकर खेलता हूं। इसलिए शाम को मैं उन्‍हें बहुत मिस करता हूं।

वैसे तो रोज़ सबेरे जब मेरी नींद खुलती है, तो मैं आवाज़ देकर फ़ौरन उन्‍हें बुलाता हूं। फिर हम बेड पर धमाचौकड़ी करते हैं। मैं पापा के ऊपर घोड़ा बनकर खेलता हूं। विन्‍डो से बाहर का नज़ारा देखता हूं। पर जब पापा मॉर्निंग-ट्रान्‍स्‍मीशन में होते हैं--तो मुझे अच्‍छा नहीं लगता। नींद खुलती है तो पापा घर में दिखते नहीं हैं।

 



वैसे आजकल मैं मम्‍मा के बग़ैर...पापा के साथ गाड़ी पर घूमता हूं। कार में भी और बाइक पर भी। इस तरह मुझे घूमने का मौक़ा ज्‍यादा मिल जाता है। हम अकसर घर का ज़रूरी सामान लेने साथ में जाते हैं। कुल मिलाकर मैं आजकल पापा का 'राइट-हैन्‍ड' बन गया हूं। अरे भई मदद करता हूं उनकी। ''सच्‍ची''। 
IMG_5971
चलिए आपको दिखाऊं पापा के साथ मैं कैसे मस्‍ती करता हूं।
पापा कंप्‍यूटर पर काम कर रहे हैं और मैं उनके कंधों पर मस्‍ती कर रहा हूं। हे हे हे।
Picture 7यहां मैं पापा के साथ ब‍िल्डिंग के टेरेस पर हूं। पीछे दूर खाड़ी के पार आपको गोराई विलेज में बने प्रसिद्ध बौद्ध पैगोडा का नुकीला शिखर दिख रहा होगा।
IMG_5661मैं रोज़ पापा के साथ ये खेल खेलता हूं। लिस्‍ट पढिए ज़रा।


छिपा-छिपी
पकड़ा-पकड़ी
हॉकी
क्रिकेट
फुटबॉल
हॉकी से क्रिकेट
बैट से हॉकी
बैट से फुटबॉल
फुटबॉल से क्रिकेट
हॉकी से फुटबॉल वग़ैरह। अब


मैं जादू हूं ना मैं कुछ भी कर सकता हूं।

IMG_3807

अब देखिए ना ऊपर वाले फोटो में मैं और पापा एक दूसरे की नकल कर रहे हैं।
और ये फोटो तब का है जब पहली बार पापा ने मुझे गोद लिया था।
IMG_2265इलाहाबाद और बनारस के बीच एक ढाबे पर पापा की गोद में। यहां की चाय बड़ी शानदार होती है। ऐसा पापा कहते हैं। IMG_4761 आजकल मैं पापा के रेडियो प्रोग्राम ध्‍यान से सुनता हूं। सेट-टॉप बॉक्‍स के ज़रिए जब टी.वी.पर विविध-भारती सुनाई देती है और जब पापा बोलते हैं तो मैं एकदम से चौंक भी जाता हूं। मुझे समझ नहीं आता कि पापा घर में तो हैं नहीं, फिर ये आवाज़ कहां से आ रही है। अरे भई मेरे पापा हैं ना...वो भी तो कुछ भी कर सकते हैं। 


जादू की ओर से पापा को हैपी फादर्स डे। 

11 comments:

महेन्द्र मिश्र said...

आपके पापा जी को जन्मदिन की बधाई और आपको जताने के लिए धन्यवाद्

adwet said...

जादू, यह सब तुम्हारा ही जादू है।

mukti said...

जादूजी आपके पापा को फादर्स डे की बधाई ! और आपको ढेर सारा प्यार.

रंजन said...

मस्त जादू...

प्यार..

*_*Surabhi*_* said...

bada cute hai aap ka jadu


god bless u jadu

JAdu kar na hai tumko bhi :)

Surabhi

सैयद | Syed said...

जादू जी, आपकी ये गेम वाली लिस्ट तो मस्त है... कुछ गेम्स हमें भी सिखा दो..

संगीता पुरी said...

तुम तो जादू हो .. कुछ भी कर सकते हो .. मैं तो यही देखने इस ब्‍लॉग पर आती हो कि तुमने क्‍या क्‍या किया ??!!

अनूप शुक्ल said...

जादू बेटा! तुम पापा को धन्यवाद बोलना भी सिखा दो। :)

yunus said...

जादू बेटा बहुत बहुत शुक्रिया। तुमने बड़ा प्‍यारा लिखा है। शुक्रिया--अनूप अंकल तक भी पहुंचे।

माधव said...

Happy Fathers Day to all

Udan Tashtari said...

जे बात!!

हॉकी से फुटबॉल

जे तो बड्डे जादू ही कर सकत हैं..


गजब आइटम हो याल!! मजा आ गया हैप्पी फादर्स डे पर ....

जादू क्‍यों

हम हैं जादू के मम्‍मी-पापा ।
'जादू' अपनी मुस्‍कानें लेकर आया है हमारी दुनिया में ।
हम चाहते हैं कि ये मुस्‍कानें हम दुनिया के साथ बांटें ।

जादुई दिन

Lilypie - Personal pictureLilypie Second Birthday tickers

  © Free Blogger Templates Spain by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP