08 December 2009

अहा........जादू चला घूमने

आप तो जानते ही हैं कि मैं रहता हूं बंबई में, oh I mean मुंबई ।


यहां अगर एक छोर से दूसरे छोर तक जाएं तो बड़ा समय लगता है । आज सबेरे-सबेरे तय हुआ है कि हम लोग घूमने जायेंगे । मैंने इतनी मस्‍ती की कि मम्‍मी-पापा तयशुदा वक्‍त से एक घंटे लेट हो चुके हैं । इस तस्‍वीर में देखिए कि मैं एकदम सीधा-सादा बच्‍चा तैयार होकर बैठा हूं । बस निकल रहा हूं । शाम को लौटूंगा तो बाकी बातें बताऊंगा ।  

IMG_5036
वैसे इतना बताता जाऊं कि जहां भी जा रहा हूं उसके लिए आज जिंदगी में पहली बार मैं बांद्रा-वरली-सी-लिंक पार करूंगा । इंतज़ार कीजिए अगली पोस्‍ट का । तो अब आपका ये जादू चला घूमने । आप क्‍या कर रहे हैं बताईये बताईये ।

 

 

 



मैं जादू हूं ना, मैं कुछ भी कर सकता हूं ।

3 comments:

रंजन said...

वैसे हमने अभी अभी पढा़ है.. मम्मी पापा पुना गये थे.. जादू नहीं गया क्या?

इंतजार कर रहे है..तुम्हारी अगली पोस्ट का..

प्यार..

बी एस पाबला said...

आपके माथे पर यह कैसा जादू है? जादू
चमकती आँखें बता रहीं कि कुछ तो किया है आपने :-)

बी एस पाबला

Udan Tashtari said...

घूम कर आओ..हम तो बैठे हैं आपकी कथा सुनने.

जादू क्‍यों

हम हैं जादू के मम्‍मी-पापा ।
'जादू' अपनी मुस्‍कानें लेकर आया है हमारी दुनिया में ।
हम चाहते हैं कि ये मुस्‍कानें हम दुनिया के साथ बांटें ।

जादुई दिन

Lilypie - Personal pictureLilypie Second Birthday tickers

  © Free Blogger Templates Spain by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP