11 September 2009

फोटोग्राफर को छकाया, फोटो देखकर मज़ा आया

जिस दिन मेरा छमाही बर्थडे था, उस दिन आपको बताया था ना कि मैं 'फोटो-स्‍टूडियो' गया था । और किस तरह मैंने फोटोग्राफर रवि अंकल को तंग किया था । आखिरकार मेरी तस्‍वीरें आ गयी हैं । यहां चढ़ाने में ज़रा देर हो गयी । लेकिन मैं आपको ये तस्‍वीरें दिखाने के लिए बहुत दिनों से बेक़रार था ।

ये देखिए इस तस्‍वीर के लिए मैंने रवि अंकल को बड़ा सताया था । क्‍योंकि वो बोलते थे मेरी तरफ देखो और मैं दूसरी तरफ देखता था जहां नीले लाल परदे टंगे थे । बेचारे एक हाथ में कैमेरा पकड़े रहे और दूसरे हाथ से झुनझुना बजाते रहे । लेकिन जब मेरी मरज़ी हुई तभी मैंने देखा । रवि अंकल भी गुरू निकले । पल भर के लिए फिरी मेरी नज़र को उन्‍होंने बड़ी चतुराई से कैमेरे में क़ैद कर लिया । मेरे मम्‍मी-पापा इस तस्‍वीर को मुंबई के मेरे डॉक्‍टर अंकल (डॉक्‍टर देवांग शाह) को भी दे आए हैं । वो तीन चार महीनों से मेरी तस्‍वीर मांग रहे थे अपने क्‍लीनिक में लगाने के लिए ।
jadoo1वैसे रवि अंकल बढिया तस्‍वीरें खींचते हैं । है कि नहीं । आपको खिंचवानी है क्‍या 
हां तो मैं कह रहा था कि मैंने रवि अंकल को बड़ा सताया । एक तस्‍वीर में फोटोग्राफर अंकल चाह रहे थे कि मैं मुस्‍कुराऊं । पापा मुझे पीछे से पकड़े थे । दो तरफ से स्‍पॉट-लाइट की रोशनी आ रही थी । रिफ्लेक्‍टर लगे थे । एक रिफ्लेक्‍टर तो मेरी गोद के पास रखा था । जिसे मैंने मौक़ा लगते ही खींच लिया । बेचारे रवि अंकल को काफी परेशानी उठानी पड़ी । आखिरकार उन्‍होंने मजबूरी में ये फोटो ली जिसमें मेरे चेहरे के भाव ऐसे हैं जैसे कह रहा हूं---'जाने कहां फंस गया, ये रवि अंकल हैं या बंदर हैं, ये इतने चेहरे क्‍यों बना रहे हैं ।' jadoo1 001
आप बताईये आपको मेरी ये तस्‍वीरें कैसी लगीं । मेरे जीवन की 'फोटो-स्‍टूडियो' में खिंचाई गयी पहली तस्‍वीरें हैं ये ।

9 comments:

संजय तिवारी ’संजू’ said...

अच्छा लगा जादू से मिलकर.

Ratan Singh Shekhawat said...

जादू ! तुम्हारी ऊपर वाली तस्वीर बहुत बढ़िया है इसके लिए तो तुम्हारे रवि अंकल को दाद देने पड़ेगी !

अनिल कान्त : said...

bahut badhiya tasveerein hain jadu ki

Ritvik said...

Jadoo itne karname karne ke bad tum photo khichne ke bareme sab kuuch jangaye ho ge,aur itniii photo khichane ke bad to tum Phatographi ke bare me bahut jan gaye ho ge. to fir tum Ravi uncle ke assistant banjao.

सागर नाहर said...

बहुत सुन्दर फोटो आई है जादूजी,
डॉक्टर अंकल ने अपने क्लिनिक में लगाई है आपकी फोटो और हमने इसे अपने कम्प्यूटर के डेस्कटॉप पर!
आजकल चैट करने भी नहीं आ रहे, क्या बहुत ज्यादा व्यस्त हो गये या अपनी नई दोस्त के साथ चैट करने में मुझे इग्नोर कर रहे हो।

pratima sinha said...

ग्यारह का अंक शुभ होता है तो हमने भी इसी शुभ अंक के साथ इस जादुई दुनिया में कदम रख दिया है (अरे भई... मेरे जुडते ही फ़ालोअर ग्यारह हो गये न).आशा है, ये जादू हमारी परेशानियों को भी छूमंतर कर मुस्कुराने की बहुत सारी वजहें दे सकेगा.

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey said...

अरे वाह, तुम तो हमारे नत्तू पांड़े लग रहे हो!

Udan Tashtari said...

मेरी फोटूआ भी हिंचवाओ..एकदम गोरी और दुबली पतली वाली रवि अंकल से बोल कर.

रंजन said...

क्या अदा है..

प्यार..

जादू क्‍यों

हम हैं जादू के मम्‍मी-पापा ।
'जादू' अपनी मुस्‍कानें लेकर आया है हमारी दुनिया में ।
हम चाहते हैं कि ये मुस्‍कानें हम दुनिया के साथ बांटें ।

जादुई दिन

Lilypie - Personal pictureLilypie Second Birthday tickers

  © Free Blogger Templates Spain by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP