25 August 2009

जादू, सावनी और बाक़ी लोग

कल मैंने आपको बताया था कि मैंने मंगेश अंकल और शिल्‍पा आंटी के घर जाकर कैसे 'गणपति-दर्शन' किया । लेकिन मैंने आपको सब कुछ कहां बताया था । अरे वहां मैंने बहुत सारे गुल खिलाए । मैं 'जादू' हूं ना...कुछ भी कर सकता हूं । तो चलिए ज़रा आगे की तस्‍वीरें देखिए और जानिए कि क्‍या क्‍या हुआ 'गणपति-दर्शन'  के वक्‍त ।
IMG_3762-2यही है वो पूजा की थाली जिस पर मैंने हाथ मारा था । और यही वो केले हैं जो मैं 'चढ़ाना' नहीं चाहता था । सच्‍ची ।  अरे हां । वहां मुझे एक नई दोस्‍त भी मिली । शिल्‍पा आंटी की भतीजी सावनी ।
IMG_3750पहले तो हमारी 'जम' नहीं रही थी । देखिए वो कैसे दूर भाग रही है ।


IMG_3751-1लेकिन फिर हमारी दोस्‍ती हो गयी । हमने साथ-साथ फोटो भी खिंचाया । IMG_3753-1
मैं जहां भी जाता हूं अपना कितना सारा साज़ो-सामान लेकर जाता हूं इस तस्‍वीर में देखिए ज़रा ।
 IMG_3769 अब ज़रा देखिए कि ऋत्विक भैया मेरे साथ कैसे खेल रहे हैं ।
IMG_3771 ये देखिए मंगेश अंकल के घर की खिड़की से कैसा नज़ारा दिखता है ।
IMG_3770 अरे सब लोग ज़ोर से बोलो रे...गणपति बप्‍पा मोरया ।


कल का दिन बड़ा ख़ास है । पर उसकी बातें तो कल होंगी ना ।

टा टा बाय बाय । सी यू ।

4 comments:

अनिल कान्त : said...

अरे वाह अच्छी दोस्ती की है...अच्छा फोटो

काव्या शुक्ला said...

Jaadu da jawaab nahee.
वैज्ञानिक दृ‍ष्टिकोण अपनाएं, राष्ट्र को उन्नति पथ पर ले जाएं।

Ritvik said...

Are! jadoo agar tumhe fhool itna hi pasand he to apna gaal chuliya karo.

Dhiraj Shah said...

nice friendship

kabhi mere blog par aaye

http://www.photographyimage.blogspot.com/

जादू क्‍यों

हम हैं जादू के मम्‍मी-पापा ।
'जादू' अपनी मुस्‍कानें लेकर आया है हमारी दुनिया में ।
हम चाहते हैं कि ये मुस्‍कानें हम दुनिया के साथ बांटें ।

जादुई दिन

Lilypie - Personal pictureLilypie Second Birthday tickers

  © Free Blogger Templates Spain by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP